कानूनी तरीके से करोड़ों रुपये कमा रहे हैं भारतीय हैकर्स, जानें कैसे

Spread the love

2016 की गर्मियों में किसी दिन प्रणव हिवरेकर फसबुक के आधुनिकतम फीचर में मौजूद कमियों को तलाशने के मिशन पर निकले। प्रणव हिवरेकर फुल टाइम हैकिंग का काम करते हैं। फेसबुक ने करीब आठ घंटे पहले ही, अपने यूजरों को नया फीचर देने की घोषणा की थी। जिसके मुताबिक यूजर्स वीडियो पोस्ट पर भी कमेंट कर सकते थे।

प्रणव ने कमियों को जानने के लिए सिस्टम की हैकिंग शुरू की, खासकर वैसी कमी जिसका इस्तेमाल करके साइबर अपराधी कंपनी के नेटवर्क को नुकसान पहुंचा सकते थे और डाटा चुरा सकते थे। इस दौरान प्रणव को वह कोड मिला जिसके जरिए वे फेसबुक का कोई भी वीडियो डिलीट कर सकते थे।

पुणे के एथिकल हैकर प्रणव बताते हैं, “मैंने देखा कि उस कोड की मदद से कोई भी वीडियो डिलीट किया जा सकता था, अगर मैं चाहता, मार्क जुकरबर्ग का अपलोड किया वीडियो भी डिलीट कर सकता था।”

उन्होंने इस कमी या बग के बारे में फेसबकु को उसके ‘बग बाउंटी’ प्रोग्राम के तहत बताया। 15 दिनों के भीतर फेसबुक ने उन्हें पांच अंकों वाली इनामी रकम से सम्मानित किया वो भी डॉलर में।

लाखों में कमाई

कुछ एथिकल हैकर काफी पैसा कमा रहे हैं और यह इंडस्ट्री तेजी से बढ़ रही है। इस तरह के बग हंटिंग का काम करने वाले ज्यादा लोग युवा होते हैं। इंडस्ट्री के अनुमान के मुताबिक हैकरों में दो तिहाई की उम्र 18 से 29 साल के बीच है। इन लोगों को बड़ी कंपनियां कोई भी खामी बताने पर बड़ी इनामी राशि देती है। वे किसी साइबर अपराधी से पहले वेब कोड की कमी का पता लगाते हैं।

जिन बग का पहले पता नहीं चल पाया हो उन्हें तलाशना बेहद मुश्किल काम होता है। लिहाजा इस काम के लिए उन्हें हजारों डॉलर की रकम मिलती है। यह एक तरह से एथिकल हैकरों के लिए बड़ी इनसेंटिव होती है।

ये भी पढ़ें : How to Earn Daily $5 useing this app

उत्तर भारत के इथिकल हैकर शिवम वशिष्ठ साल में सवा लाख डॉलर की आमदनी कर लेते हैं। वे बताते हैं, “इस तरह की इनामी रकम ही मेरी आमदनी का एकमात्र स्रोत है। मैं दुनिया की बड़ी कपंनियों के लिए कानूनी तौर पर हैकिंग का काम करता हूं और इसके लिए पैसे मिलते हैं। यह एक तरह से फन भी है और चुनौतीपूर्ण काम भी।”

कैसे सीख सकते हैं हैकिंग

इस क्षेत्र में कामयाबी हासिल करने के लिए किसी आधिकारिक डिग्री या अनुभव की जरूरत नहीं है। शिवम ने अन्य हैकरों की तरह से यह काम आनलाइन रिसोर्सेज और ब्लॉग के जरिए सीखा है। शिवम बताते हैं, “हैकिंग सीखने के लिए मैंने कई रातें जागकर बिताई है, ताकि सिस्टम पर अटैक कर सकूं। मैंने दूसरे साल के बाद यूनिवर्सिटी की पढ़ाई छोड़ दी थी।”

ईनामी रकम का असर

साइबर सिक्योरिटी फर्म हैकरवन के मुताबिक, 2018 में अमेरिका और भारत के हैकरों ने सबसे ज्यादा इनामी रकम जीतने का काम किया। इनमें से कुछ हैकर तो साल में 3.5 लाख डॉलर से भी ज्यादा कमा रहे हैं।

हैकिंग की दुनिया में गीकब्वॉय के नाम से मशहूर संदीप सिंह बताते हैं कि इसमें काफी मेहनत करनी होती है। वे कहते हैं, “मुझे अपनी पहली वैध रिपोर्ट और इनामी रकम जीतने में छह महीने का समय लगा और इसके लिए मैंने 54 बार आवेदन किया था।”

इंडस्ट्री की मुश्किलें

चाहे वह सार्वजनिक हो या निजी, इनामी रकम के बाजार में भीड़ बढ़ती जा रही है और हर कोई बहुत ज्यादा कमा नहीं रहा है। कुछ लोग हैं जो ढेरों पैसा बना चुके हैं लेकिन जयादातर लोगों ने कोई पैसा नहीं बनाया है। इसके अलावा इस इंडस्ट्री की सबसे बड़ी मुश्किल जेंडर असंतुलन का होना है।

बग क्राउड की कासी इली ने बताया, “साइबर सिक्यूरिटी का क्षेत्र परंपरागत तौर पर पुरुषों के दबदबे वाला क्षेत्र है। इसलिए इस बात को बहुत अचरज से नहीं देखा जाना चाहिए कि दुनिया भर के हैकरों में महज 4 प्रतिशत हैकर महिलाएं हैं।”

ये भी पढ़ें : ऑनलाइन सर्वे फील करके हर दिन $10 कैसे कमाए

बग क्राउड ने इंडस्ट्री की दूसरी बड़ी कंपनियों के साथ मिलकर इस क्षेत्र में महिलाओं को आने के लिए प्रोत्साहित करने वाले कई कार्यक्रम चलाए हैं। ताकि इंटरनेट की दुनिया ज्यादा सुरक्षित जगह बनाई जा सके। लेकिन अभी बदलाव के लिए काफी कुछ करना बाकी है।

जेसे किन्सर ने एक इंटरव्यू में कहा था, “ऐसा इसलिए है क्योंकि पुरुषों की तुलना में महिलाओं के काम को कमतर आंका जाता है। यह हर जगह की समस्या है। इसलिए मैं इसे समाज की समस्या मानती हूं। टेक में दिलचस्पी रखने वाली महिलाओं को लाना समस्या का हल नहीं है। हम लोग यहां हैं ही और हमारा जन्म हो चुका है।”

जेसे किन्सर को उम्मीद है कि जैसे-जैसे इंटरनेट को सुरक्षित बनाने जाने की मांग जोर पकड़ेगी, वैसे-वैसे ज्यादा महिलाएं इस क्षेत्र में आती जाएंगी और हैकिंग समुदाय से भी उन्हें मदद मिलेगी।


Spread the love

हेलो गाइज, मै Twinkle और में इस ब्लॉग की ओनर हु, और पिछले 3 सालोसे डिजिटल मार्केटिंग, ब्लॉगिंग पर काम कर रही हु। और यहाँ पे ये भी आशा करती हु की आपको हमारे ब्लॉग का कॉन्टेंट पसंद आ रहा है।

60 thoughts on “कानूनी तरीके से करोड़ों रुपये कमा रहे हैं भारतीय हैकर्स, जानें कैसे”

  1. very good information कानूनी तरीके से करोड़ों रुपये कमा रहे हैं भारतीय हैकर्स,

    Reply
  2. Navratri Special………………………………………….
    जम्मू का सबसे प्रसिद्ध वैष्णो माता मंदिर
    त्रिकुटा पहाड़ियों में, कटरा से 15 किमी की दूरी पर समुद्रतल से 1560 मीटर की ऊँचाई पर स्थित माता वैष्णो देवी का पवित्र गुफा मंदिर है, जहाँ आध्यात्मिकता और वातावरण में जीवंतता है। माता वैष्णो देवी मंदिर जम्मू -कश्मीर के साथ-साथ पुरे भारत का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है जहाँ हर साल हजारों तीर्थयात्री मां वैष्णों का आशीर्वाद लेने के लिए जाते हैं। वैष्णो देवी एक धार्मिक ट्रेकिंग डेस्टिनेशन है जहाँ तीर्थयात्री लगभग 13 किमी तक पैदल चलकर छोटी गुफाओं तक पहुँचते हैं जो 108 शक्तिपीठों में से एक है। वैष्णो देवी, जिसे माता रानी के नाम से भी जाना जाता है, हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार देवी दुर्गा की एक अभिव्यक्ति हैं। तीर्थयात्री सड़क के किनारे मां वैष्णवी की प्रशंसा में नारे और गीत गाते हुए अपना समर्पण और उत्साह दिखाते हैं। कुल मिलाकर यह एक महान स्थान है जहाँ तीर्थ यात्री और प्रकृति प्रेमी दोनों झुकाव रखते हैं।

    Reply
  3. Navratri Special………………………………………….
    जम्मू का फेमस टेम्पल रणबीरेश्वर मंदिर
    रणबीरेश्वर मंदिर जम्मू और कश्मीर सिविल सचिवालय के सामने स्थित शलमार रोड पर स्थित है। भगवान शिव को समर्पित रणबीरेश्वर मंदिर जम्मू के सबसे लोकप्रिय व महत्वपूर्ण धर्मिक स्थलों में से एक है। जो श्रद्धालुयों के लिए प्रमुख आस्था केंद्र बना हुआ है। माना जाता है रणबीरेश्वर मंदिर की स्थापना यहाँ के तत्कालीन राजा रणबीर सिंह द्वारा की गई थी जो भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त थे। रणबीरेश्वर मंदिर में मंदिर के मुख्य देवता शंकर जी की साढ़े सात फीट ऊंचे लिंगम की स्थापना की गई थी। मंदिर की एक और प्रमुख विशेषता यह है कि इसकी तीन दीवारें गणेश और कार्तिकेय के चित्रों के साथ सोने की बनी हुई हैं। इसके अलावा यहाँ की एक और प्रसिद्ध मान्यता यह है की मंदिर में स्थापित नन्दी बैल के कान में बोलकर मन्नत मागने से सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।

    Reply
  4. Navratri Special………………………………………….

    जम्मू का प्रमुख तीर्थ स्थल अमरनाथ
    अमरनाथ गुफा भगवान शिव के उपासकों के लिए भारत में सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में से एक है। जो जम्मू कश्मीर का सबसे पुराना तीर्थ स्थल माना जाता है। अमरनाथ गुफा प्राकृतिक रूप से बर्फ से निर्मित शिवलिंग के लिए प्रसिद्ध है जो हर साल लाखों तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता हैं, जिसे अमरनाथ यात्रा के नाम से जाना जाता है। अमरनाथ गुफा अब तक की सबसे पवित्र हिंदू तीर्थस्थलों में से एक है। किंवदंतियों के अनुसार, अमरनाथ की गुफा से जुड़ी एक पौराणिक कहानी भी है माना जाता है ये वही गुफा है, जहां भगवान शिव अपनी पत्नी, देवी पार्वती को अमरता का रहस्य बताया था। इसके अलावा यहाँ गुफा में भगवान गणेश और देवी पार्वती, जी की बर्फ की मूर्तियाँ भी स्थापित हैं।

    Reply
  5. Navratri Special………………………………………….

    अमरनाथ शिवलिंग की कहानी
    शिवलिंग की कहानी भगवान शिव और माता पार्वती से जुड़ी है। खास बात है कि यह शिवलिंग बर्फ से प्राकृतिक रूप से ही बनती है। बताया जाता है कि इस गुफा में पानी की बूंदे जगह-जगह टपकती हैं, जिससे प्राकृतिक रूप से शिवलिंग का निर्माण होता है। प्राकृतिक हिम से लगभग 10 फुट लंबा शिवलिंग हर साल यहां बनता है। जिसे हिमानी शिवलिंग भी कहा जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार चंद्रमा का आकार घटने या बढऩे के साथ ही शिवलिंग का आकार घटता और बढ़ता है। अजूबा ही है कि यहां बना शिवलिंग ठोस बर्फ का होता है, जबकि गुफा के अंदर मौजूद बर्फ कच्ची होती है जो हाथ लगाते ही पिघल जाती है। आषाढ़ पूर्णिमा से रक्षाबंधन तक हिमलिंग दर्शनों के लिए लाखों यात्री यहां आते हैं।

    Reply
  6. Navratri Special………………………………………….

    किसने की अमरनाथ गुफा की खोज
    पौराणिक कथा के अनुसार अमरनाथ गुफा की खोज भृगु मुनि ने की थी। बताया जाता है कि बहुत समय पहले कश्मीर घाटी पानी में डूब गई थी। तब कश्यप मुनि ने नदियों की एक श्रृंखला के जरिए इसे पानी से बाहर निकाला था। तब भृगु मुनि ही पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने अमरनाथ की गुफा के दर्शन किए थे।

    Reply
  7. Navratri Special………………………………………….

    अमरनाथ गुफा में दिखने वाले में कबूतरों का रहस्य
    धार्मिक पुराणों के मुताबिक गुफा में मौजूद दो कबूतरों की कहानी भी भगवान शिव और माता पार्वती से जुड़ी है। बताया जाता है कि एक बार माता पार्वती ने भगवान शिव से उनके अजर-अमर होने का रहस्य पूछा था। जिसे बताने के लिए भगवान शिव उन्हें इस गुफा में ले गए ताकि कोई भी जन जीव इस कथा को न सुनने पाए। क्योंकि जो भी इस कथा को सुन लेता तो निश्चित रूप से वह अमर हो जाता। पुराणों के अनुसार शिवजी ने यहां पर पार्वती को अपनी कठोर साधनी की कथा सुनाई, जिसे अमरत्व कहा जाता है। कथा सुनते-सुनते पार्वती को नींद आ गई लेकिन शिवजी को पता नहीं चला। वे अपनी कथा सुनाते रहे। उस समय वहां दो कबूतर मौजूद थे, जो उनकी कथा सुन रहे थे और बीच -बीच में हूं -हूं की आवाज निकाल रहे थे, तो शिवजी को लगा कि पार्वती कथा सुनने के दौरान आवाज निकाल रही हैं। उन्होंने बाद में देखा तो पार्वती तो गहरी नींद में सो रही थीं, लेकिन दो कबूतर उनकी कथा सुनकर अमर हो गए। इस बात पर भगवान शिव को बहुत गुस्सा आया और उन्हें मारने की सोचा। तब कबूतरों ने भगवान शिव से कहा कि आप चाहें तो हमें मार दें, लेकिन इससे आपकी अमर होने वाली कथा झूठी हो जाएगी। जिसके बाद भगवान शंकर ने उन्हें माफ कर दिया और उन्हें वरदान दिया कि तुम हमेशा इस जगह पर माता पार्वती के प्रतीक चिन्ह के रूप में निवास करोगे। तब से गुफा में दो कबूतरों की कथा प्रचलित हो गई। हालांकि लोगों का सवाल होता है कि क्या आज भी ये कबूतर यहां देखने को मिलते हैं। तो बता दें कि इस गुफा में आप कई कबूतरों का झुंड देख सकते हैं, लेकिन अमर कथा सुनने वाले कबूतर कौन से हैं, उसका अनुमान लगाना नामुमकिन है।

    Reply
  8. Navratri Special………………………………………….

    जम्मू के धार्मिक स्थल रघुनाथ मंदिर
    जम्मू के दिल या इस शहर के केंद्र में स्थित रघुनाथ मंदिर जम्मू के सबसे प्रतिष्ठित मंदिरों में से एक है जो भगवान विष्णु जी के आठवें अवतार ‘राम’ जी को समर्पित है। जिन्हें डोगरा समुदाय का संरक्षक देवता माना जाता है। रघुनाथ मंदिर जम्मू-कश्मीर में राम भक्तो के लिए प्रमुख आस्था केंद्र बना हुआ है जो हर साल कई हजारों श्रद्धालुयों को भगवान राम के दर्शन पाने के लिए आकर्षित करता है। रघुनाथ मंदिर से जुडी एक दिलचस्प बात यह भी है की इस विशाल मंदिर को पूरा होने में 25 साल लग गया थे जिसका निर्माण 1835 ईस्वी से शुरू होकर 1860 में पूर्ण हुआ था। रघुनाथ मंदिर परिसर में भगवान राम के मंदिर सहित सात मंदिर है जिनमे अलग-अलग देवताओं की मूर्तियाँ विराजमान है। और इनके अलावा मंदिर के प्रवेश द्वार पर राजा रणबीर सिंह की एक मूर्ति भी स्थापित की गई है।

    Reply
  9. Navratri Special………………………………………….

    जम्मू के लोकप्रिय मंदिर पीर खो गुफा मंदिर
    तवी नदी के तट पर स्थित, पीर खो गुफा मंदिर जम्मू के सबसे प्रसिद्ध और लोकप्रिय धार्मिक स्थलों में शुमार है। पीर खो गुफा मंदिर भगवान शिव को समर्पित मंदिर है जिसे जामवंत गुफा भी कहा जाता है। महाकाव्य रामायण के भालू, भगवान जामवंत ने इस मंदिर में ध्यान लगाया था। यही कारण है कि इसे जामवंत गुफा के नाम से भी जाना जाता है। पीर खो गुफा मंदिर चट्टानें और बबूल के पेड़ो से घिरा हुआ है। पीर खो गुफा मंदिर जम्मू के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है जहाँ शिवरात्रि के दौरान विशेष पूजा और शिव जी के अभिषेक का आयोजन किया जाता है और जिस दौरान इस पवित्र स्थल का बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को द्वारा दौरा किया जाता है।

    Reply
  10. Navratri Special………………………………………….

    जम्मू कश्मीर के प्रसिद्ध मंदिर अवंतिपुर मंदिर
    उत्कृष्ट कलाकृतियों के चमत्कार को दर्शाता हुआ अवंतिपुर मंदिर श्रीनगर के दक्षिण-पूर्व में स्थित है। सूर्य देव को समर्पित इस मंदिर का निर्माण राजा अवंतिवर्मन द्वारा 855 ईस्वी से 883 ईस्वी के बीच किया गया था। माना जाता है राजा अवंतिवर्मन सूर्यदेव के बहुत बड़े भक्त थे, और इसलिए उन्हें मंदिर का निर्माण करबाया था। लेकिन अवंतिपुर मंदिर में सूर्यदेव के अलावा देवी रागनी देवी सहित कुछ अन्य देवताओं के मंदिर भी स्थापित है। और मंदिर अपनी असाधारण स्तर की नक्काशी के लिए काफी प्रसिद्ध है। इसीलिए अवंतिपुर मंदिर श्रद्धालुयों के साथ-साथ इतिहास और कला प्रेमियों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है और बड़ी मात्रा में इस प्राचीन मंदिर का दौरा किया जाता है।

    Reply
  11. Navratri Special………………………………………….
    जम्मू के हिन्दू मंदिर पंचबक्तर मंदिर

    पंचबक्तर मंदिर भगवान शिव को समर्पित मंदिर है। जो इस शहर का सबसे प्राचीन शिवालय भी है। जहाँ पुरानी कथाओं और प्राचीन इतिहास का संग्रह है। पंचबक्तर मंदिर जम्मू और कश्मीर के स्थानीय निवासियों के लिए एक प्रमुख आस्था केंद्र माना जाता है। जहाँ भगवान शिव के उत्साही अनुयायी अक्सर पंचबक्त्र मंदिर के धार्मिक तीर्थस्थल पर जाते हैं और सर्वोच्च देवता और अनंत सुख प्राप्त करने के लिए उनसे प्राथना करते हैं। और यह मंदिर अतीत में श्री अमरनाथ यात्रा से भी जुड़ा था जो अमरनाथजी की पवित्र गुफा तीर्थ के दर्शन के लिए जा रहे साधुओं के लिए एक धर्मशाला या शिविर के रूप में कार्य करता था।

    Reply
  12. Navratri Special………………………………………….

    जम्मू का प्रमुख धार्मिक स्थान महामाया मंदिर
    राजसी बाहु किले के पीछे स्थित महामाया मंदिर जम्मू के प्रसिद्ध धार्मिक और पर्यटक स्थलों में से एक है। महामाया मंदिर शानदार तवी नदी के दृश्य के साथ शानदार सरंचना है। महामाया मंदिर का निर्माण अन्य मंदिरों की तरह किसी देवी-देवता को समर्पित नही है बल्कि इस मंदिर का निर्माण डोगरा समुदाय की एक स्थानीय स्वतंत्रता सेनानी महामाया के सम्मान के लिए किया गया था, जिन्होंने अपने क्षेत्र को विदेशी आक्रमणकारियों से बचाने के लिए लगभग 14 शताब्दी पहले अपना बलिदान दिया था। और इसी बजह से यह मंदिर हर साल कई हजारों श्रद्धालु और पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है जो महान नायिका महामाया के बलिदान के सम्मान में उन्हें श्रधांजलि देने के लिए आते है।

    Reply
  13. You smile like this, we stop the right subscriber and answer, but when it comes to giving every gift, pay attention to us too, thank you wholeheartedly for this Amit Kumar

    Reply
  14. Happy Navratri mam अपनी जिंदगी एक भी बॉयफ्रेंड बनाना जो आपको आप के मंजिल पर ले जाओ बहुत-बहुत धन्यवाद बहुत-बहुत धन्यवाद अमित कुमार

    Reply
  15. नवरात्रि का दूसरा दिन शुभकामनाएं आपको आपके पूरे परिवार को और आपके आने वाले पूरे परिवार को दिल से धन्यवाद मित्रों

    Reply
  16. नवरात्रि का दूसरा दिन शुभकामनाएं आपको जिस कदर मुस्कुराकर आप ही वीडियो बनाते हैं ऐसे ही हम लोगों का भी ख्याल करते रहे दिल से अमित कुमार

    Reply
  17. Aapki बजासे आज बेरोज गार घर बेठे कुच कमरहे है मॅम thanx myam thanks

    Reply
  18. Hi मॅम मे हर दीन माताजी से मेरे लिये एक विशेष मागता हू की मेरा गिवववे मे नंबर aai मे पीचीली गीव्वे मे भी नहीं आया था मॅम प्लीज इस गिव्ववे मे मेरा नाम लेना मॅम प्लीज मॅम मे aapse विणती करता हू मॅम प्लीज मेने बोएत कमेंट भी कीये है मॅम प्लीज देखो मॅम प्लीज प्लीज गिफ्ट मे जुना मोबाईल होगा तो प्लीज भेजणा मॅम किवकि मेरोको मोबाईल की बोअत जरुरत है मॅम मे aapse रिक्वेस्ट करता hu myam प्लिज मेरे फिलिग को समजो मॅम मे बोअत दीन से प्रयास करता आरा हू मॅम तबी मुझे सफलता नहीं मिली मॅम प्लीज मेरा कमेंट जरूर पढो मॅम
    मॅम आपको जुट लगता हो
    होगा मॅम पर आयासा कुच नहीं है मॅम sachme मॅम प्लीज प्लीज
    कुच गलत kaha honga to प्लीज माफ कर देना मॅम thanx
    Good job
    Good dey
    नवरात्री की shubkamna
    सदा खूश रेहणा

    Reply
  19. आप भी कानूनी तरीके से करोड़ों रुपये कमा सकते है

    Reply
  20. good news

    क ही चार्जर से चार्ज होंगे फोन, टैबलेट, स्मार्टवॉच, हेडफोन समेत सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण

    हाल के दिनों में मोबाइल में आग और ब्लास्ट की घटना तेजी से बढ़ी है। इसकी वजह यह सामने आई है कि मोबाइल को चार्ज करने में किसी दूसरी कंपनी के चार्जर का इस्तेमाल किया गया। मोबाइल में विस्फोट उसकी बैटरी के कारण होता है। किसी दूसरे चार्जर से चार्ज करने पर बैटरी गर्म होकर ब्लास्ट कर जाती है। अगर बैटरी को नुकसान पहुंचता है तो उसकी वजह से भी शॉर्ट सर्किट हो जाता है। एक समान चार्जर आने से यह समस्या नहीं होगी। इससे मोबाइल में आग और ब्लास्ट की घटना रोकने में मदद मिलेगी।

    Reply
  21. good news

    एक ही चार्जर से चार्ज होंगे फोन, टैबलेट, स्मार्टवॉच, हेडफोन समेत सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण

    हाल के दिनों में मोबाइल में आग और ब्लास्ट की घटना तेजी से बढ़ी है। इसकी वजह यह सामने आई है कि मोबाइल को चार्ज करने में किसी दूसरी कंपनी के चार्जर का इस्तेमाल किया गया। मोबाइल में विस्फोट उसकी बैटरी के कारण होता है। किसी दूसरे चार्जर से चार्ज करने पर बैटरी गर्म होकर ब्लास्ट कर जाती है। अगर बैटरी को नुकसान पहुंचता है तो उसकी वजह से भी शॉर्ट सर्किट हो जाता है। एक समान चार्जर आने से यह समस्या नहीं होगी। इससे मोबाइल में आग और ब्लास्ट की घटना रोकने में मदद मिलेगी।

    Reply

Leave a Comment